Skip to main content

Posts

[Kripa Teri Ho Jaye] Radha Rani Bhajan MP3 Lyrics | Swasti Mehul

The bhajan dedicated to Radha Rani often celebrate her divine love and devotion to Krishna and melodious tunes and heartfelt lyrics, Radha Rani bhajan evoke a sense of spiritual connection and devotion among devotees, inviting them to immerse themselves in the divine love shared between Radha and Krishna. Bhajan - Swasti Mehul Singer - Swasti Mehul Lyrics - Swasti Mehul Composer - Swasti Mehul Label - Zee Music Company Radhe Radhe Naam Ratat Jo Written Text Lyrics Radhe Radhe Naam Ratat Jo Radhe... Radhe... Radhe...  Radhe... Radhe bol Radhe... Radhe... Radhe... Radhe... Radhe bol Radhe Radhe Naam Ratat Jo.. Radha Rani Maan me Basaye Radhe ki Phir Kripa Barase Radha maye Jeevan ho Maye Radhe Radhe Naam Ratat Jo.. Radha Rani Maan me Basaye Radhe ki Phir Kripa Barase Radha maye Jeevan ho Maye Kripa Teri Ho Jaye  Radha Rani... Kripa Teri Ho Jaye  Radha Rani... Kripa Teri Ho Jaye  Radha Rani... Kripa Teri Ho Jaye  Radha Rani... Aadhaar Tum Hi Uddhaar Tum Hi Meri Bhakti ka Sringaar Tum hi M

[सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी] Shani Dev Aarti Lyrics | Aarti Sangrah

Shani Dev Aarti lyrics are traditionally sung by devotees to honor and seek the blessings of Lord Shani Dev, who is believed to be a benevolent deity for those who worship him with devotion. The aarti is sung in praise of Shani Dev, who is one of the Navagrahas (nine planets) in Hindu astrology. Shani Dev is known to be the god of justice and retribution, delivering results based on one's deeds. Lyrics: Traditional Composition: Traditional Bhagwan Shani Dev Aarti MP3 Lyrics Text जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।  सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी॥  जय जय श्री शनि देव... श्याम अंग वक्र-दृ‍ष्टि चतुर्भुजा धारी।  नीलाम्बरधारी नाथ गज की असवारी॥   जय जय श्री शनि देव... क्रीट मुकुट शीश राजित दिपत है लिलारी।  मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी॥   जय जय श्री शनि देव... मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी।  लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी॥   जय जय श्री शनि देव... देव दनुज ऋषि मुनि सुमिरत नर नारी।  विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी॥   जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी।  सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतार

[राम नाम से जगमग] Ram Naam Se Jagmag Hai Lyrics | Shri Ram

भगवान राम हिन्दू धर्म के एक प्रमुख देवता हैं और उन्हें मानवता के मार्गदर्शक और आदर्श पुरुष के रूप में पूजा जाता है। भगवान राम का कथा महाभारत की रचना वाले महर्षि वेदव्यास द्वारा लिखी गई "रामायण" में मिलता है, जिसमें भगवान राम के जीवन की कई महत्वपूर्ण घटनाएं और उनके धर्मिक उपदेश विवरणित हैं। "राम नाम से जगमग है" इस वाक्य का अनुवाद होता है "भगवान राम के नाम की प्रकाशमयता।" भगवान राम हिन्दू पौराणिक कथाओं में एक महत्वपूर्ण पात्र हैं और उन्हें विष्णु भगवान का सातवाँ अवतार माना जाता है। यह वाक्य सुझाव देता है कि केवल भगवान राम के नाम की याद या उच्चारण से ही उनकी महत्वपूर्णता और प्रकाशमयता आती है। Song-Ram Naam Se Jagmag Hai Singer-Sachet Tandon Music-Shabbir Ahmed Lyrics-Shabbir Ahmed & Hemant Tiwari Ram Naam Se Jagmag Hai Song Lyrics  Vo Kitne Dhanwan Dhani Jo Ram Ke Darshan Pate Hai Vo Kitne Dhanwan Dhani Jo Ram Ke Darshan Pate Hai Ha Sita Ke Ram Rammya Nayya Par Lgate Hai Name Se Tere Kaam Ho Mera Ho Jivan Se Dur andhera Mai Hu Tumshe Tumshe Jag Hai Mere G

भगवान गणेश जी आरती के शब्द गीत | Lord Ganesha's Aarti Lyrics

भगवान गणेश की आरती उनके प्रभावशाली और प्रिय भक्तों के द्वारा गाई जाने वाली पूजनीय स्तुति है। इस आरती का पाठ करना भक्तों को दिव्य और शांति भरे अनुभव में ले जाता है और उन्हें गणेश जी के सानिध्य से जोड़ने का अद्वितीय अवसर प्रदान करता है। इस आरती के शब्द और सुरों का संगम एक आध्यात्मिक अनुभव का सृजन करता है, जिससे भक्त गणेश जी के प्रति अपनी श्रद्धाभावना को व्यक्त करते हैं और उनकी कृपा को आत्मसात करते हैं। गणेश जी की आरती  हिंदी में जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ एक दंत दयावंत, चार भुजा धारी। माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी॥ जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ पान चढ़े फल चढ़े, और चढ़े मेवा। लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा॥ जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया। बांझन को पुत्र देत निर्धन को माया॥ जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ सूर' श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती प

पवित्र हनुमान आरती लिरिक्स | Aarti Kije Hanuman Lala Ki

आरती कीजै हनुमान लला की: श्रद्धांजलि भवभूति और सुकून आपको एक आध्यात्मिक सफर पर ले जाएं 'आरती कीजै हनुमान लला की' के साथ - श्रद्धांजलि भवभूति और सुकून के लिए। इस भक्तिमय योगदान से हनुमान जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए, आप आध्यात्मिक संबंध में श्रद्धा, शांति, और दैहिक जुड़ाव की भावना को जागृत करें। इस भक्ति के तालमेल में आपको श्रद्धा के रूपी संगीत में सुकून की अनुभूति होगी।  हनुमान जी की आरती  आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की। आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके। अंजनि पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई।। आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारी सिया सुधि लाए। लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई। आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। लंका जारि असुर संहारे। सियारामजी के काज संवारे। लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।आनि संजीवन प्राण उबारे। आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। पैठी पाताल तोरि जमकारे। अहिरावण की भुजा उखारे

[जय अम्बे गौरी] Durga Maa Ki Aarti Lyrics | Aarti Sangrah

दुर्गा माँ, हिन्दू धर्म की प्रमुख देवी, शक्ति की प्रतीक हैं। वह नैराश्य, साहस, और महिलाशक्ति का प्रतीक हैं। उनके अनेक हाथों में हर तरह की शस्त्र होते हैं, जो बुराई को समाप्त करने के लिए हैं। वह सौंदर्य और शौर्य का प्रतीक है, जो अपने भक्तों को सभी प्रकार के परिप्रेक्ष्य से बचाने के लिए तैयार हैं। AI Generated Maa Durga Images दुर्गा माँ आरती लिरिक्स - भक्ति गीतों के शब्द जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी। ॐ जय अम्बे गौरी… मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को, उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको॥ ॐ जय अम्बे गौरी… कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै, रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै॥ ॐ जय अम्बे गौरी… केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्पर धारी, सुर-नर-मुनिजन सेवत, तिनके दुखहारी॥ ॐ जय अम्बे गौरी… कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती, कोटिक चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योती॥ ॐ जय अम्बे गौरी… शुंभ-निशुंभ बिदारे, महिषासुर घाती, धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती॥ ॐ जय अम्बे गौरी… चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे, मधु-कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे॥ ॐ जय अम्बे गौरी… ब्रह्माणी, रूद्राणी

[ॐ जय लक्ष्मी माता] Om Jai Lakshmi Mata Bhajan Lyrics | Aarti Sangrah

Mata Lakshmi Ji Ki Aarti MP3 Text Lyrics and HD Video माता लक्ष्मी धन सम्पदा की देवी हैं। माँ सब पे क्रिया बनाये रखें। माँ लक्ष्मी की आरती से सब संभव हो जाता है और मन विचलित नहीं होता है। प्रेम से बोलिये माँ महालक्ष्मी जी की जय यहां हम माता लक्ष्मी जी की आरती हिंदी पाठ गीत प्रस्तुत करते हैं AI Generated Maa Lakshmi Images मां लक्ष्‍मी की आरती गीतिकाव्य [ Maa Lakshmi Ki Aarti Lyrics in Hindi ] मां लक्ष्‍मी की आरती मां लक्ष्‍मी की आरती ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥ उमा, रमा, ब्रम्हाणी, तुम ही जग माता । सूर्य चद्रंमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥ ॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥ दुर्गा रूप निरंजनि, सुख-संपत्ति दाता । जो कोई तुमको ध्याता, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता ॥ ॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥ तुम ही पाताल निवासनी, तुम ही शुभदाता । कर्म-प्रभाव-प्रकाशनी,भव निधि की त्राता ॥ ॥ॐ जय लक्ष्मी माता...॥ जिस घर तुम रहती हो, ताँहि में हैं सद्‍गुण आता । सब सभंव हो जाता, मन नहीं घबराता ॥ ।।ॐ जय लक्ष्मी माता...॥ तुम बिन यज्ञ ना होता, वस्त्र न कोई पाता । खान पान का वैभव, सब तुमसे

Shirdi Sai Chalisa MP3 Lyrics in English | Sai Bhajan

Sai Chalisa in English and HD Video: Here we are present with shree Sai Deva Chalisa, Sai Baba Chalisa in English, Shirdi Sai Baba Chalisa HD Video, Shirdi Sai Baba Chalisa in English text and HD Video for you all. !!!OM SAI RAM!!!! Sai Chalisa in English and HD Video SHREE SAI CHALISA Pehle Sai ke charno mein, apna sheesh nivauo maiy, Kaise Shirdi Sai aaye, saara haal sunau maiy. ||1|| Kaun hai mata, pita kaun hai, yeh na kisi ne bhi jaana, Kaha janam Sai ne dhara, prashan paheli raha bana. ||2|| Koee kahe Ayodhya ke, yeh Ramchandra bhagvan hain, Koee kehta Saibaba, pavan putra Hanuman hain. ||3|| Koee kehta mangal murti, Shri Gajanan hain Sai, Koee kehta Gokul-Mohan Devki Nandan hain Sai. ||4|| Shanker samajh bhakt kaee to, baba ko bhajhte rahte, Koee kahe avtar datt ka, pooja Sai ki karte. ||5|| Kuch bhi mano unko tum, pur sai hain sachche bhagvan, Bade dayalu deen-bandhu, kitno ko diya jivan-daan. ||6|| Kaee varsh pehle ki ghatna, tumhe sunaunga mein baat, Keesy bhagyashaali ki Shi